Tuesday, 19 September 2017

gazal a vinita

जिंदगी मे हमारी अब तुम्ही हो बस तुम्ही
तुम्हे पाकर जमाने की हमने खुशी पा ली 
तुझे चाहूंगी इस तरह हर दिन आखिरी हो 
मेरी 
 ////////'//////////'/////////'/////'


न दिन गुजरे न राते हो हर एक करवट मे बाते हो 
न दिन गुजरे न राते हो हर एक फुर्कत बाते हो 
ये साँसें थम जाए उस घड़ी जहां  तेरी न खुशबु हो 
जिंदगी मे हमारी //////////////'//////'


महफिल मे तमन्नाए निगाहे  लिये हैं  खड़ी 
तु मुड़कर देख एक दफा 
कही इनमें मै  तो नही 
जिंदगी मे हमारी /////'//////'////'
सुना है तुम नही करते वफाँए  दिल्लगी 
मगर हमने तो कर ली मोहबत्तें  आखिरी 


जिंदगी मे हमारी अब तुम्ही हो बस तुम्ही 
तुम्हे पाकर जमाने की हमने खुशी पा ली .


                                                                       विनिता   पाण्डेय   🙇😊 🎵🎶🎼

4 comments:

Raj Pandey said...

Sach me very nice😘

Unknown said...

Kya lakhti hai didi aap Bahut Khoob

Unknown said...

Bahut Khoob Pandey ki Bahut Khoob

Manisha Chaubey said...

Very very nice ☺

9svini.com

तन और आँच

                           त न  और  आँच  सर्दी  की   निष्ठुरता  ने,  अंग  को  मेरे  जमा  दिया           रक्त  सुख  कर  बर्फ  ब...