Tuesday, 2 January 2018

गजल ए सावन.

       सावन की पहली बारिश हो तुम
      इस दिल की आखिरी ख्वाहिश  तुम
     
     तुझे मैने अपने दिल मे बसाया
      खुदा को भी हमने तेरे बाद पाया
                       तु दुआ है मेरी तु ही मेरा जुनून
                       आ मुझे थाम ले बनके मेरा शुकून
        सावन की पहली _ _ _ _ _ _!_
         इस  दिल की      ------------!   
 
     
         मेरे जीवन पे तुम्हारा ही हक है
          तु जाने जॉ मेरी जुर-तँजु है
                             इस जहाँ मे कोई तुझसा प्यारा  नही
                              तेरे बिन जमाना गवाँरा नही
             
           सावन की पहली बारिश हो तुम
           इस दिल की आखिरी ख्वाहिश   हो तुम.
                vinita pandey.😊☔☔☔☔

9svini.com

तन और आँच

                           त न  और  आँच  सर्दी  की   निष्ठुरता  ने,  अंग  को  मेरे  जमा  दिया           रक्त  सुख  कर  बर्फ  ब...