Friday, 28 September 2018

meri raah -zindagi..

                                        [[  राह   ए    औरत ]]          
                                               --------------                                                     

          कुछ  नये  कुछ  पुराने  इन  राहों  पर  मिल  जाते  अक्सर  जाने  अनजाने  

           कभी  कोई  नजर  घूरती ,तो  कभी  कोई  महफूज  करती ,

            बढ़ते  चले  जाना  राहों  के  साथ  जिंदगी  हैं  यही | | 
   

  १]   बचपन  से  जवानी  की राह  कभी  लम्बी  नहीं  लगी 
    
         छोड़ा  जब  बाबुल  का  पहलु  हर  दिन  लगे  अब  जंग सी  ''


  २ ]   जी  रही  मै  हर  किसी  की  जिंदगी  अपनी  परवाह  नहीं 

          आश  बस  साथ  हैं  ये  राहें  कभी  होंगी  नई ''

  ३ ]   कल  जब  लौटी  पुरानी  राहों  पर  यादें  गहरा  गयीं 

          आँख  में  बस  आँसु  थे  मैं  ना  थी  कही  ''

 ४ ]    माँ  बाबा  के  साथ  उन्होंने  मुझको  भी  दफना दिया 
 
          लौटकर  आई  जब  घर को  अपनों  ने  भी  भुला  दिया ''

  ५]     बना  दिया  मेरा  ठिकाना  जहाँ   सब  अनजाने  थे 

            ना  जाने  ये  सभी  क्यूँ  लगते  जाने  पहचाने  से ''

    ६ ]   आज  निकलु  हुँ  थककर  आखिरी  राह  पर 

            जिसमें  शुकूनें  मैं  हुँ  अभी 

            मैं  औरत  इस  जिंदगी  ए  राह  की नर्तकि  बनी  रही |||  

        
    



                                   

9svini.com

तन और आँच

                           त न  और  आँच  सर्दी  की   निष्ठुरता  ने,  अंग  को  मेरे  जमा  दिया           रक्त  सुख  कर  बर्फ  ब...