Monday, 12 March 2018

jivan me karm pradhan.


                                                                   राधा  स्वामी 
                                                             {आज का विचार। }.

  1. हमारा वर्तमा न हमारे पिछले विचारों  और  कर्मों का फल हैं ,  कर्म और  कर्मफल नियमानुसार हमारा भविष्य हमारे आज के विचारों और कर्मों द्वारा तय किया जाएगा |
    2.      इस समय हम अपनी निर्मल बुध्दि और विवेक द्वारा अपने जीवन के हर पल का इस्तेमाल इस तरह कर               सकते  हैं  ;कि हमें  न केवल इस जीवन में बल्कि अनंत काल तक इसका फायदा मिले |
   
                    
                                                                   कर्म --1 

 
 
             इससे दो बातें अस्पश्ट होती हैं की कर्म फल इसी जन्म में नहीं अपितु हमारे अन्य जन्मों में  भी                             इसका  प्रभाव  रहता हैं  !
       
              कर्म कर्म सब कोई कहे, कर्म न चिन्हेेे कोय। 
              जो मन का बंधन बनै ,कर्म कहावै सोय।।
 


                 कर्म इन्सान को पूर्ण बनाता हैं वह  उसके हर रूप का भागीदार होता हैं  उसकी पहचान कर्त्तब्य के                       द्वारा  ही  बनती हैं ,चाहें वह स्त्री हो या पुरुष; प्रकृति के नियमों में कर्म प्रधान रुप हैं ,इसे मोक्छ द्वार
                  भी कहते हैं                                                                   
                                                        सोच -2 
                                                     

                  हमारे लिए  यह समझना बहुत जरूरी हैं  कि हमारी सोच ही हमारे ऊपर गहरा प्रभाव डालती हैं।
                  हमारे दुःखो और तकलीफों के लिए जिंदगी की घटनाएँ  या दूसरे लोग जिम्मेदार नहीं हैं , बल्कि                          उनके प्रति हमारी अपनी सोच ही हमारे दुःख का कारण हैं।





9svini.com

तन और आँच

                           त न  और  आँच  सर्दी  की   निष्ठुरता  ने,  अंग  को  मेरे  जमा  दिया           रक्त  सुख  कर  बर्फ  ब...