Sunday, 6 January 2019

Kavita

                                      

                                     कविता 


 ढलती  गुजरती  शामे ंं / /सुबहों  नई 

ढलती  गुजरती  हैं  रातें  कई  ,किरणों  के  आते  
                  ये सुबहों  नई 

                                             
सभी  बंद  लियाँ  खिलने  लगी  
   उमँगे  लीये  भौरें  घूमें  सभी     


                                 महकते  हुए  इन  नजरों  की  झड़ी 
                                 किरणों  के  आते  ये  सुबहों  नई          
                                                                                                    

                       ढ़लती  गुजरती  हैं  शामें  कई 
                                     किरणों के  जाते  ये  रातें  नई 

     भौरों  को  फूलों  की  जो  प्यास थी 
    उन्हीं   में   सिमटकर  होंगी  पूरी  

       
                            जीभर  के  पीके  पराग  नशा 
                            होके  मतवाला  वो  ना  उड़ा  

         
    उसकी  तो  दुनियाँ  हैं  पंखुड़ियाँ   वही 
   किरणों के  जाते  ये  रातें  नई \\



 विनिता    पाण्डेय  
https://9svini.wordpress.com/






No comments:

9svini.com

तन और आँच

                           त न  और  आँच  सर्दी  की   निष्ठुरता  ने,  अंग  को  मेरे  जमा  दिया           रक्त  सुख  कर  बर्फ  ब...