Wednesday, 29 May 2019

रिश्ते और प्यार

    अनमोल  रिश्ता /
  और  प्यार | 


पापा  ने जब ब्याह के भेजा 
बस इतना कहा हुईं  तु  पराई 
जो कुछ भी हैं  बस यहीं हैं  तेरे 
इन्हें  ही  तु अपना ख़ुदा
समझना , 
इन्हीं चंद बातों ने दुनियाँ  बसाया 
हुआ दिल को एहसास मुझे प्यार आया  | 

First look portraits,first look wedding portraits,Indian wedding first look portraits,Indian wedding first look,Indian bride and groom first look,Indian bride and groom first look portraits,First-look portraits,first-look wedding portraits,Indian wedding first-look portraits,Indian wedding first-look,Indian bride and groom first-look,Indian bride and groom first-look portraits,first-look,Indian wedding portraits,Indian wedding portrait,portraits of Indian wedding,portraits of Indian bride and groom,Indian wedding portrait ideas,Indian wedding photography,Indian wedding photos,photos of bride and groom,Indian bride and groom photographyबैठ के डोली जब  ससुराल आई 
पति ने कहा मै तो हुँ तुम्हारा 
तुम हो मेरे जीवन की धारा 
सुनो संगीनी एक एहसान करना 
मेरे माँ  बाप परिवार का ख्याल रखना मुझसे भी पहले कर्तब्य हो तुम इनकी 
इनका कर्ज़ कभी ना चुकेगा ,
इन्हीं चंद बातों ने परिवार बनाया 
हुआ दिल को एहसास मुझे प्यार आया | 



Wednesday, 8 May 2019

हरि की चुनरियाँ

हरि की चुनरियाँ ऐसी लागी,  

दर्द बढ़त हैं जाये ,
                                    
इत् उत् देखु तोहे सवारियाँ, 

नैना प्यास बढ़ाये प्यास जगाये,,

जाग रही मैं अधर पुकारें, 

साँझ सकारे राह तिहारे [रैन तुम्हारे ]


गाँव नगर सब छुट गई रे ,

हरि  की चुनरियाँ ऐसी लागी ,

दर्द बढ़त है जाएं || 


इक मोहें दरश दिखा दो ,    

इस बिरहन की आश पुरा दो,

प्राण तो मोरी तेरी ताक धरी रे,, 

   
हरि की चुनरियाँ ऐसी लागी,

दर्द बढ़त है जाये |||                                मीरा   की  प्रित  कृष्ण 

Sunday, 6 January 2019

Kavita

                                      

                                     कविता 


 ढलती  गुजरती  शामे ंं / /सुबहों  नई 

         ढलती  गुजरती  हैं  रातें  कई 
   
            किरणों  के  आते  ये सुबहों  नई 

                                             
सभी  बंद  लियाँ  खिलने  लगी  
   उमँगे  लीये  भौरें  घूमें  सभी     


                                                                                  महकते  हुए  इन  नजरो की  झड़ी 
                               
         किरणों  के  आते  ये  सुबहों  नई          
                                                                                                    

                             ढ़लती  गुजरती  हैं  शामें  कई 
     
                      किरणों के  जाते  ये रातेंनई 

     भौरों  को  फूलों  की  जो  प्यास थी 
    उन्हीं   में   सिमटकर  होंगी  पूरी  

       
                            जीभर  के  पीके  पराग  नशा 
                            होके  मतवाला  वो  ना  उड़ा  

         
    उसकी  तो  दुनियाँ  हैं  पंखुड़ियाँ   वही 
   किरणों के  जाते  ये  रातें  नई \\



 विनिता    पाण्डेय  
https://9svini.wordpress.com/






Thursday, 15 November 2018

WAQT

वक्त की पोटली  



गुजरते  हुए  हालत  को  हम बया  कैसे  करे 

जख्मों की आगाज  को दिल बया कैसे करें 

कब थी हमको  आश उनसे कब थी हमकों  बेरुखी 

आज फिर हालत से घायल जुबाँ कैसे कहे 

लोग दिल बदलतें  हैं जैसे करवट रातों की 

हम नादान ये भी ना समझें दुनियाँ दस्तूरे कभी 

अब बया कैसे करे आगाज दिल दर्दे सभी 




 रस्मों रिवाजों में दबी आँह  भी अंजाम भी 

हमने सब सँजोय लिया वक्त की ये पोटली 


अब बया कैसे करे आगाज दिल दर्दे सभी   






                                            विनिता  पाण्डेय --

yaadein-astitva

       यादें  ; अस्तित्व                                                             जिंदगी  में कई बार ऐसा समय आता हैं 
              कि अपनी राह बदलनी पड़ती हैं                                       

         इस राह पर चलते समय सबसे मुश्किल  
               तब होता हैं जब पुरानी 
         यादें हमें अपनी अस्तित्व  के साथ   घेरती  हैं  | 
                                                                                                                                              
  
     







      

हमने जब भी उनको बुलाया 
हाथ  दिया अंधेरों ने ,
                                      
                                               साथ नहीं कोई ,आश नहीं कोई 
   दर्द पिरोया अकेलो में ;;;


भूल के उनको आगें बढ़ गई जब ,आँख दिखाया गैरों ने 
लाज की गढ़री अब दम भरती ,डगर बनाया उसुलों ने






सागरों  जगत का इक ही बखेड़ा ,मुझ बिह्वल  का  कौन  सबेरा  

इक  दिन  मैं  टुट  जाऊँगी  ,पँख  बिना  ही  उड़  जाऊँगी  | | 





                                                                                       विनिता  पाण्डेय                                                                                       

Friday, 28 September 2018

meri raah -zindagi..

                                        [[  राह   ए    औरत ]]          
                                               --------------                                                     

          कुछ  नये  कुछ  पुराने  इन  राहों  पर  मिल  जाते                             अक्सर  जाने  अनजाने  

           कभी  कोई  नजर  घूरती ,तो  कभी  कोई  महफूज                                करती ,

            बढ़ते  चले  जाना  राहों  के  साथ  जिंदगी  हैं  यही |
   

  १]   बचपन  से  जवानी  की राह  कभी  लम्बी  नहीं  लगी 
    
         छोड़ा  जब  बाबुल  का  पहलु  हर  दिन  लगे  अब                                   जंग सी  ''


  २ ]   जी  रही  मै  हर  किसी  की  जिंदगी  अपनी  परवाह                                     नहीं 

          आश  बस  साथ  हैं  ये  राहें  कभी  होंगी  नई ''

  ३ ]   कल  जब  लौटी  पुरानी  राहों  पर  यादें  गहरा  गयीं 

          आँख  में  बस  आँसु  थे  मैं  ना  थी  कही  ''

 ४ ]    माँ  बाबा  के  साथ  उन्होंने  मुझको  भी  दफना दिया 
             लौटकर  आई  जब  घर को  अपनों  ने  भी  भुला                                   दिया ''

  ५]     बना  दिया  मेरा  ठिकाना  जहाँ   सब  अनजाने  थे 

            ना  जाने  ये  सभी  क्यूँ  लगते  जाने  पहचाने  से ''

    ६ ]   आज  निकलु  हुँ  थककर  आखिरी  राह  पर 

                   जिसमें  शुकूनें  मैं  हुँ  अभी 

            मैं  औरत  इस  जिंदगी  ए  राह  की नर्तकि  बनी                                   रही |||  

        
   



                                   

Tuesday, 27 March 2018

guru par vishwas

       
                                             \\   राधा स्वामी \\

                          जीवन की चेतन हो तुम तो ,मन का एक विराम
                          हृदय को जो प्रफ़ुल्लित कर दे ,ऐसा तेरा नाम
                          गुरु जी ------------\------------------\

               

                           मन पावन जीवन पावन, ऐसी दी हैं राह
                           सुखमय हो जीवन उसका,जो अपना ले एक बार 
                           गुरु जी  --------------\-----------------\


                         जग की माया झूठी जांनू, इसमें तड़पन हैं अंधकार 
                        झोड़ दे सारे मोह की गठरी ,कर ले सुमिरन आज 
                        गुरु जी ऐसा तेरा नाम -------\-----------------\
              


                      योग ना जानु जोग ना जानु ,ना जानु व्यभिचार 
                      मुझको अपना लो मेरे बाबा ,लोआ गई तेरे द्वार 
                       गुरु जी ---------------\--\----------------------\
                     
                      जीवन की चेतन हो तुम तो, मन का एक विराम 
                       ----------------\----------------😊😊😊😊😊😊😊😊😊😊
                      🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏downlod

Monday, 12 March 2018

jivan me karm pradhan.


                                                                   राधा  स्वामी 
                                                             {आज का विचार। }.

  1. हमारा वर्तमा न हमारे पिछले विचारों  और  कर्मों का फल हैं ,  कर्म और  कर्मफल नियमानुसार हमारा भविष्य हमारे आज के विचारों और कर्मों द्वारा तय किया जाएगा |
    2.      इस समय हम अपनी निर्मल बुध्दि और विवेक द्वारा अपने जीवन के हर पल का इस्तेमाल इस तरह कर               सकते  हैं  ;कि हमें  न केवल इस जीवन में बल्कि अनंत काल तक इसका फायदा मिले |
   
                    
                                                                   कर्म --1 

 
 
             इससे दो बातें अस्पश्ट होती हैं की कर्म फल इसी जन्म में नहीं अपितु हमारे अन्य जन्मों में  भी                             इसका  प्रभाव  रहता हैं  !
       
              कर्म कर्म सब कोई कहे, कर्म न चिन्हेेे कोय। 
              जो मन का बंधन बनै ,कर्म कहावै सोय।।
 


                 कर्म इन्सान को पूर्ण बनाता हैं वह  उसके हर रूप का भागीदार होता हैं  उसकी पहचान कर्त्तब्य के                       द्वारा  ही  बनती हैं ,चाहें वह स्त्री हो या पुरुष; प्रकृति के नियमों में कर्म प्रधान रुप हैं ,इसे मोक्छ द्वार
                  भी कहते हैं                                                                   
                                                        सोच -2 
                                                     

                  हमारे लिए  यह समझना बहुत जरूरी हैं  कि हमारी सोच ही हमारे ऊपर गहरा प्रभाव डालती हैं।
                  हमारे दुःखो और तकलीफों के लिए जिंदगी की घटनाएँ  या दूसरे लोग जिम्मेदार नहीं हैं , बल्कि                          उनके प्रति हमारी अपनी सोच ही हमारे दुःख का कारण हैं।





Thursday, 8 February 2018

9svini.com

तन और आँच

                           त न  और  आँच  सर्दी  की   निष्ठुरता  ने,  अंग  को  मेरे  जमा  दिया           रक्त  सुख  कर  बर्फ  ब...